Motivational Poem In Hindi

84
loading...

कोशिश कर, हल निकलेगा |
आज नही तो, कल निकलेगा |
अर्जुन के तीर सा सध,
मरुस्थल से भी जल निकलेगा ||
मेहनत कर, पोधो को पानी दे,
बंजर जमीन से भी फल निकलेगा |
ताकत जुटा, हिम्मत को आग दे,
फोलाद का भी बल निकलेगा |
जिन्दा रख, दिल मे उम्मीदों को,
गरल के समन्दर से भी गंगाजल निकलेगा |
कोशिशे जारी रख कुछ कर गुजरने की,
जो है आज थमा सा, चल निकलेगा ||

motivational poems in hindi 

युग युग से है अपने पथ पर
देखा कैसा खड़ा हिमालय !
डिगता कभी न अपने प्रण से
रहता प्रण पर अडा हिमालय !
जो जो भी बाधाये आई
उन सब से ही लड़ा हिमालय,
इसीलिए तो दुनिया भर मे
हुआ सभी से बड़ा हिमालय !
अगर न करता काम कभी कुछ
रहता हर दम पड़ा हिमालय,
तो भारत के शीश चमकता
नही मुकुट – सा जड़ा हिमालय !
खड़ा हिमालय बता रहा है
डरो न आंधी पानी मे,
खड़े रहो अपने पथ पर
सब कठिनाई तूफानी मे !
डिगो न अपने प्रण से तो
सब कुछ पा सकते हो प्यारे !
तुम भी ऊँचे हो सकते हो
छु सकते नभ के तारे !!

inspirational poems in hindi 

Tag: inspirational poems in hindi, motivational poems in hindi, motivational shayari, hindi kavita on life

Status in Hindi
loading...