कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) के कारण व् उपाए

cholesterol in hindi, cholesterol control home remedies in hindi, diet chart for cholesterol control in hindi, cholesterol symptoms in hindi, hdl cholesterol meaning in hindi,how to control triglycerides in hindi, desi nuskhe in hindi , gharelu upchar in hindi, dadi maa ke gharelu nuskhe in hindi, health tips in hindi, home remedies in hindi, baba ramdev ka ilaj in Hindi

234
cholesterol in hindi, cholesterol control home remedies in hindi, diet chart for cholesterol control in hindi, cholesterol symptoms in hindi, hdl cholesterol meaning in hindi,how to control triglycerides in hindi, desi nuskhe in hindi , gharelu upchar in hindi, dadi maa ke gharelu nuskhe in hindi, health tips in hindi, home remedies in hindi, baba ramdev ka ilaj in Hindi
cholesterol in hindi, cholesterol control home remedies in hindi, diet chart for cholesterol control in hindi, cholesterol symptoms in hindi, hdl cholesterol meaning in hindi,how to control triglycerides in hindi, desi nuskhe in hindi , gharelu upchar in hindi, dadi maa ke gharelu nuskhe in hindi, health tips in hindi, home remedies in hindi, baba ramdev ka ilaj in Hindi
loading...

शरीर में कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) बनके की प्रक्रिया एक सामान्य बात है। यह एक (Cholesterol) मुलायम व् चिपचिपा पदार्थ होता है जो रक्त शिराओं व कोशिकाओं में पाया जाता है। कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) की जरुरत कोशिकाओं के निर्माण/ हारमोन के निर्माण, व् बाइल जूस का निर्माण करने में होती है जो वसा का पाचन करने में मदद करता है| इसलिए कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) को शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा मन जाता है। 80 % कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) का निर्माण हमारे शरीर में लीवर द्वारा किया जाता है और बाकी 20 % भोजन से प्राप्त होता है। कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol)  रंग में हल्का पीला सा होता है । यह चर्बी या वसा से बना होता है। कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) का होना शरीर के लिए जरूरी है मगर सामान्यता से अधिक होने पर ये शरीर के लिए हानिकारक है। हमारे भोजन का 30 % तक का भाग कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) ही होता है। यह जिगर (अंग) में जाता है और भोजन से ही बनता है और यह शरीर को हमेशा भोजन से ही प्राप्त होता है।परन्तु इसकी अधिकता दिल संबंधी रोगों का कारण बन जाती है। शरीर में कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) दो तरह से पाया जाता है। शरीर कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) की कुछ मात्रा का निर्माण स्वयं करता है तथा शेष भोजन में जेसे मक्खन, क्रीम,  फैट युक्त दूध से  निर्मित होता है। फल, सब्जी एवं अनाजों में कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) न के बराबर पाया जाता है।

  • कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) बढ़ने के कारण

अनुवांशिक गुण

फ़ास्ट फ़ूड का जयादा सेवन

वासा युक्त भोज़न जयादा करना

उम्र बढने के साथ साथ

दिनचर्या में एक्सरसाइज का कम होना

कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) बढ़ने के लक्षण

कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) बढ़ने से निम्न बिमारिया होता है

डायबिटीज़

हाई ब्लड प्रेशर high blood pressure

हार्ट अटैक hartatack

कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) के प्रकार  

HDL हाई डेन्सिटी लिपोप्रोटीन (HIGH  Density Lipoprotein) LDL लो डेन्सिटी लिपोप्रोटीन (Low Density Lipoprotein)
यह अच्छा कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) है। जोकि रक्त में मौजूदा अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) को वापस लीवर  में ले जाता है जिससे आपका शरीर इससे निजात पा सके।

 

यह बुरा कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) है। यह लीवर में बने अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) को नसों में पहुचाता है जिससे वहा रक्त के संचालन ने रूकावट पैदा होती है| और दिल के दौरि का कारण बनती है।

 

कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) कम करने के उपाए

हमारे शरीर को स्वस्थ व् फुर्तीला रखने के लिए कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) की मात्रा को नियंत्रित करना चाहिये| इसके लिए उपाए

1 धनिया पाउडर को पानी में उबालकर सुबह व् शाम को पीना चाहिए इससे तेजी से कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) कम होता है|

2  अपनी जीवन शेली में प्याज को प्रधानता दे| ये भी  तेजी से कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) कम करता है|

  1. संतरे के जूस में विटामिन C होता है जिससे LDL कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) को हटाने में मदद करता है |

4 नियमित रूप से व्यायाम करने पर शरीर में कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol)नहीं बढ़ता। इसके अलावा हमे  योगासन भी करना चाहिए।

5 धूम्रपान से कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol)की मात्रा बढ़ती है। इसलिए धूम्रपान नहीं करना चाहिए|

6 कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) का चिकित्सकीय उपचार भी है। कोलेस्ट्रॉल की अधिक मात्रा (high cholestorol में  आयुर्वैदिक दवाओं जेसे आरोग्यवर्धिनी, त्रिफला, पुनर्नवा मंडूर,चन्द्रप्रभा वटी व् अर्जुन की छाल के चूर्ण का काढ़ा लेना बहुत लाभकारी होता है।

7  हरी और काली चाय का सेवन करना चाहिए क्यूंकि हरी और काली चाय (Black Tea ) कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) के स्तर को घटाने में कारगर होती है।

8 रेड वाइन का एक पेग भी को अपनी जीवन शैली में शामिल करना चाहिए। क्योंकि इसमें प्रोसाइन्डिंस नामक रसायन पाया जाता है जो स्वास्थ्यवर्धक है, यह डार्क चॉकलेट में भी पाया जाता है।

9 फलो में स्ट्रा बेरी, माल्टा, नींबू, लाल अंगूर,एवोकीडो, ख़ूबानी, सेब, ब्लूबेरीज़, कीवी, अनार. रेशे युक्त भोजन लेने से वसा पर तो नियंत्रण होता ही है साथ ही कोलेस्ट्रोल का स्तर भी कम होता है।

10 मछली का तेल (Fish Oil) व् अलसी (फ्लेक्स आयल ) का तेल भी बुरे कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) को नियंत्रित करने में बहुत सहायक होता है।

cholesterol in hindi, cholesterol control home remedies in hindi, diet chart for cholesterol control in hindi, cholesterol symptoms in hindi, hdl cholesterol meaning in hindi,how to control triglycerides in hindi, desi nuskhe in hindi , gharelu upchar in hindi, dadi maa ke gharelu nuskhe in hindi, health tips in hindi, home remedies in hindi, baba ramdev ka ilaj in Hindi

Status in Hindi
loading...