दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल उत्तर भारत में भूकंप के तेज झटके – DELHI, HARYANA, PUNJAB, NORTH INDIA BHUKAMP

261
loading...

दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल उत्तर भारत-सोमवार की रात 10:30 के आसपास भूकंप के हल्‍के झटके महसूस किए गए. हालांकि भूकंप की तीव्रता का तुरंत पता नहीं चल सका लेकिन लोग डर जरूर गए. दिल्‍ली में कुछ दफ्तरों में बैठे लोगों ने भी झटके महसूस किए. दिल्‍ली के अलावा उत्तराखंड और चंडीगढ़ में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए. राष्‍ट्रीय भूकंप ब्‍यूरो के अनुसार भूकंप की तीव्रता 5.8 थी. भूकंप का केंद्र उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग के पीपलकोटि को बताया जा रहा है. भूकंप जमीन के 33 किलोमीटर नीचे आया था और 7-10 सेकेंड तक झटके महसूस किए गए.

भूकंप BHUKAMP क्यों आता है जानिए

  • पृथ्वी के अंदर सात प्लेट्स हैं, जो लगातार घूम रही हैं. जहां ये प्लेट्स ज्यादा टकराती हैं, वह जोन फॉल्ट लाइन कहलाता है.
  • बार-बार टकराने से प्लेट्स के कोने मुड़ते हैं. जब ज्यादा दबाव बनता है तो प्लेट्स टूटने लगती हैं.
  • नीचे की एनर्जी बाहर आने का रास्ता खोजती है. डिस्टर्बेंस के बाद भूकंप आता है.

भूकंप आने के वक्त यदि आप घर से बाहर हैं तो ऊंची इमारतों, बिजली के खंभों आदि से दूर रहें. जब तक झटके खत्म न हों, बाहर ही रहें. चलती गाड़ी में होने पर जल्द गाड़ी रोक लें और गाड़ी में ही बैठे रहें. ऐसे पुल या सड़क पर जाने से बचें, जिन्हें भूकंप से नुकसान पहुंचा हो या पहुंच सकता हो.

अगर आप भूकंप के दौरान मलबे के नीचे दब जाएं तो माचिस हरगिज़ न जलाएं क्‍योंकि इस दौरान गैस लीक होने का खतरा हो सकता है. हिलें नहीं, और धूल न उड़ाएं. किसी रूमाल या कपड़े से चेहरा ज़रूर ढक लें. अगर कपड़ा न हो तो उसे ढक लें. किसी पाइप या दीवार को ठकठकाते रहें, ताकि बचाव दल आपको तलाश सके. यदि कोई सीटी उपलब्ध हो तो बजाते रहें. यदि कोई और जरिया न हो, तो चिल्लाते रहें, हालांकि चिल्लाने से धूल मुंह के भीतर जाने का खतरा रहता है, सो, सावधान रहें.

Status in Hindi
loading...